Navratri Maa Durga Aarti : जय अम्बे गौरी Lyris

Navratri Durga Aarti jai ambe gauri 2020 Lyris ambe gauri 2020Navratri Durga Aarti jai ambe gauri 2020

जय अम्बे गौरी मैया जय मंगल मूर्ति ।
तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिव री ॥टेक॥

मांग सिंदूर बिराजत टीको मृगमद को ।
उज्ज्वल से दोउ नैना चंद्रबदन नीको ॥जय॥

कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजै।
रक्तपुष्प गल माला कंठन पर साजै ॥जय॥

केहरि वाहन राजत खड्ग खप्परधारी ।
सुर-नर मुनिजन सेवत तिनके दुःखहारी ॥जय॥

Read  नवदुर्गा उत्सव को नवरा‍त्रि क्यों कहते हैं, नवदिन क्यों नहीं?

कानन कुण्डल शोभित नासाग्रे मोती ।
कोटिक चंद्र दिवाकर राजत समज्योति ॥जय॥
शुम्भ निशुम्भ बिडारे महिषासुर घाती ।
धूम्र विलोचन नैना निशिदिन मदमाती ॥जय॥

चौंसठ योगिनि मंगल गावैं नृत्य करत भैरू।
बाजत ताल मृदंगा अरू बाजत डमरू ॥जय॥

भुजा चार अति शोभित खड्ग खप्परधारी।
मनवांछित फल पावत सेवत नर नारी ॥जय॥

कंचन थाल विराजत अगर कपूर बाती ।
श्री मालकेतु में राजत कोटि रतन ज्योति ॥जय॥

Read  नवदुर्गा उत्सव को नवरा‍त्रि क्यों कहते हैं, नवदिन क्यों नहीं?

श्री अम्बेजी की आरती जो कोई नर गावै ।
कहत शिवानंद स्वामी सुख-सम्पत्ति पावै ॥जय॥

 

Navratri Durga Aarti jai ambe gauri 2020 Lyris

Devi Bhajan: Jai Ambe Gauri
Singer: Lakhbir Singh Lakkha
Music Director: Durga-Natraj
Lyrics: Traditional
Album: Aartiyan Hi Aartiyan
Music Label: T-Series

adin

Leave a Reply