गर लौट सका तो जरूर लौटूंगा, तेरा शहर बसाने को……..!

lockdown poemगर लौट सका तो जरूर लौटूंगा, तेरा शहर बसाने को।

पर आज मत रोको मुझको, बस मुझे अब जाने दो।।

मैं खुद जलता था तेरे कारखाने की भट्टियां जलाने को,

मैं तपता था धूप में तेरी अट्टालिकायें बनाने को।

 

मैंने अंधेरे में खुद को रखा, तेरा चिराग जलाने को।

मैंने हर जुल्म सहे भारत को आत्मनिर्भर बनाने को।

Read  Lockdown में चर्चा में आईं IPS सिमाला प्रसाद, बॉलीवुड फिल्मों में भी कर चुकी हैं काम

 

मैं टूट गया हूँ समाज की बंदिशों से।

मैं बिखर गया हूँ जीवन की दुश्वारियों से।

मैंने भी एक सपना देखा था भर पेट खाना खाने को।

पर पानी भी नसीब नहीं हुआ दो बूंद आँसूं बहाने को।

 

मुझे भी दुःख में मेरी माटी बुलाती है।

मेरे भी बूढ़े माँ-बाप मेरी राह देखते हैं।

मुझे भी अपनी माटी का कर्ज़ चुकाना है।

Read  दुनिया की सबसे Good News, बन गया कोरोनावायरस का वैक्सीन ...

मुझे मां-बाप को वृद्धाश्रम नहीं पहुंचाना है।

मैं नाप लूंगा सौ योजन पांव के छालों पर।

 

मैं चल लूंगा मुन्ना को  रखकर कांधों पर।

पर अब मैं नहीं रुकूँगा जेठ के तपते सूरज में।

मैं चल पड़ा हूँ अपनी मंज़िल की ओर।

गर मिट गया अपने गाँव की मिट्टी में तो खुशनसीब समझूंगा।*

औऱ गर लौट सका तो जरूर लौटूंगा, तेरा शहर बसाने को।*

Read  महाराष्ट्र में एक दिन में Covid-19 के 790 नए मामले, 36 लोगों की मौत, अब तक महाराष्ट्र में कुल 521 लोगों की मौत

पर आज मत रोको मुझको, बस मुझे अब जाने दो।।*

 

भारत की पलायन करती अर्थव्यवस्था यानी मज़दूरों को सादर समर्पित_

15 मई 2020

डॉ राकेश कुमार सिंह_, कानपुर

adin

Leave a Reply

Next Post

सुहाना के टॉप पर फिदा हुई अनन्या, सुहाना बोली पहले मेरे शॉर्ट्स वापस करो

Sun May 17 , 2020
गर लौट सका तो जरूर लौटूंगा, तेरा शहर बसाने को। पर आज मत रोको मुझको, बस मुझे अब जाने दो।। मैं खुद जलता था तेरे कारखाने की भट्टियां जलाने को, मैं तपता था धूप में तेरी अट्टालिकायें बनाने को।   मैंने अंधेरे में खुद को रखा, तेरा चिराग जलाने को। मैंने […]