मर्द को दर्द नहीं होता, इस सोच को बदलने की जरूरत : भूमि

अभिनेत्री भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar)का मानना है कि फिल्मों में महिलाओं को कमतर दिखाए जाने की सोच में अब बदलाव लाया जाना चाहिए क्योंकि अभिनेत्री के मुताबिक, महिलाओं के अंदर कई शक्तियां निहित हैं। भूमि कहती हैं, ‘हमें लैंगिक भेदभाव के आधार पर बनी सोच में बदलाव लाना चाहिए। महिलाओं और पुरुषों को दिखाए जाने के ढंग में परिवर्तन लाना चाहिए। महिलाओं को कमतर नहीं आंका जाना चाहिए–हममें भी इच्छाएं हैं, महत्वाकांक्षाएं हैं, हमारी भी अपनी शारीरिक व भावनात्मक जरूरते हैं और हममें संतुलन बनाए रखने की भी क्षमता है। मेरे ख्याल से महिलाओं में सुपर पावर है। मुझे लगता है कि हमें फिल्मों में इन्हें दिखाए जाने की आवश्यकता है।’

भूमि आगे कहती हैं, ‘ठीक इसी तरह से फिल्मों में पुरुषों को जिस अंदाज में पेश किया जाता है, उनमें बदलाव लाने की जरूरत है। हम पुरुषों पर यह कहकर काफी ज्यादा दबाव डाल देते हैं कि उन्हें ताकतवर बनना होगा, वे रो नहीं सकते, अपनी भावनाओं को खुलकर जाहिर नहीं कर सकते। ताकतवर होने का तात्पर्य इन्हीं से है। मर्द को दर्द नहीं होता, इस सोच को बदलने की जरूरत है।

Read  रैपर बादशाह की कार का हुआ ऐक्सिडेंट, बाल-बाल बची जान

कोरोनाकाल में सब लोग मास्क पहनें इसे लेकर कई सेलीब्रिटीज समय-समय पर जागरुकता फैलाने का काम करते रहे हैं। भूमि पेडनेकर इस क्रम में नया नाम हैं। भूमि ने एक स्लोगन जारी कर लोगों को मास्क पहनने के लिए प्रेरित किया है। भूमि का स्लोगन है- अगर आप सचमुच केयर करते हैं तो कृपया मास्क पहनिए।-

भूमि ने यह स्लोगन अपने इंस्टाग्राम एकाउंट के माध्यम से जारी किया है। इस पोस्ट में भूमि ने एक गुलाबी रंग का मास्क पहन रखा है। भूमि एक जानी-मानी पर्यावरण कार्यकर्ता हैं।

Read  क्या भारत अब सांस ले सकता है?

adin

Leave a Reply

Next Post

रिया के ड्रग्स कनेक्शन में एक नया चेहरा आया सामने, गोवा का है यह होटल मालिक

Fri Aug 28 , 2020
अभिनेत्री भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar)का मानना है कि फिल्मों में महिलाओं को कमतर दिखाए जाने की सोच में अब बदलाव लाया जाना चाहिए क्योंकि अभिनेत्री के मुताबिक, महिलाओं के अंदर कई शक्तियां निहित हैं। भूमि कहती हैं, ‘हमें लैंगिक भेदभाव के आधार पर बनी सोच में बदलाव लाना चाहिए। महिलाओं […]