‘हिंदुस्‍तान किसी के बाप का नहीं’ अलविदा… राहत साहब!…..

हिंदुस्‍तान किसी के बाप का नहीं….

मशहूर शायर और गीतकार राहत इंदौरी साहब इस दुनिया में नहीं रहे. उन्होंने आज शाम 5 बजे आखिरी सांस ली. राहत इंदौरी को कोरोना की वजह से 9 अगस्त को इंदौर के अरविंदो अस्पताल में भर्ती कराया गया था. लेकिन उनका इंतकाल ह्रदय गति रुकने से हुआ. अब से थोड़ी देर बाद, रात 9.30 बजे उन्हें सुपुर्द-ए-खाक कर दिया जाएगा. लेकिन यादों में जज्बातों में राहत साहब हमेशा जिंदा रहेंगे

शायर सबका होता है, होशमंदों का भी और रिंदों का भी। वो खुदा का भी होता है और आशि‍कों का भी। उसकी शायरी हर अवाम के लिए होती है। आम के लिए भी और खास के लिए भी। जब मुहब्‍बत होती है तो आशि‍क की जबान पर शायरी रवां होती है, जब मुहब्‍बत नहीं होती है तो उसके दर्दों में भी शायरी होती है।
ठीक उसी तरह शायर भी किसी एक का नहीं होता, वो सबका होता है, अवाम का भी और खुदा का भी। यहां का भी, वहां का भी। इस दौर का भी और उस दौर का भी।

Read  सुहाना के टॉप पर फिदा हुई अनन्या, सुहाना बोली पहले मेरे शॉर्ट्स वापस करो

शायर राहत इंदौरी अब खुदा के हैं। …और यह राहत की बात नहीं है। जो सबसे ज्‍यादा राहत की बात है वो यह है कि वे अपने पीछे अदब की इतनी बड़ी मिल्‍कियत
छोड़ गए हैं कि उसे महफिलों में गाते-गुनगुनाते एक कई शामें और सहरें गुजर जाएगीं। उनके शेर कहते-सुनते कई जवान सामईन (श्रोता)
और आशिक बूढ़े हो जाएंगे। उनके नहीं होने पर भी वाह… वाह की दाद सुनाई आती रहेगी।

शायद इसलिए राहत ने खुद अपने लिए यह शेर कहा होगा,
अब ना मैं हूं न बाकी है जमाने मेरे
फि‍र भी मशहूर हैं शहरों में फसाने मेरे

ऐसा नहीं है कि राहत इंदौरी शाइरी और अदब की दुनिया में सबसे बड़ा नाम थे। उनका एक कद था और वे बड़े होते जा रहे थे। यहां फैज भी हुए और फराज भी हुए। मुनीर नियाजी भी हुए और गुलजार भी हुए। लेकिन राहत के कहन और उनके अंदाज ने उन्‍हें ज्‍यादा मशहूर किया।

Read  सुशांत की एक्स मैनेजर बनने वाली थीं सूरज पंचोली के बच्चे की मां, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहीं खबरें

पूरे मंच को घेर कर बेतकल्‍लूफ खड़े होकर वे ऊपर आसमान में जैसे किसी रोशनदान, किसी खि‍ड़की की तरफ देखते थे। जैसे वहां लिखा कोई शेर वे पढ़ रहे हो। मिसरा पढ़ने के बाद वे मतला पढ़ने के लिए एक लंबा पॉज लेते थे, जैसे कुछ भूल गए या कुछ याद कर रहे हों। उनके इसी अंदाज ने नए सामईन को उनका मुरीद बनाया।

आशि‍कों की जबान में बोले गए उनके शेर को सबसे ज्‍यादा दाद मि‍ली। लेकिन एक वक्‍त ऐसा भी आया जब उन्‍होंने कहा,

हिंदुस्‍तान किसी के बाप का नहीं

उनके इस लहजे को अवाम ने हिंदू-मुस्‍लिम का फर्क समझ लिया। या शायद यह शेर पढ़ने का उनका वक्‍त गलत था। वे विवादों में भी रहे, ट्रोल भी हुए। हालांकि उन्‍होंने यह भी लिखा कि…

Read  अस्पताल में भर्ती Aishwarya Rai का बुखार हुआ कम, Aaradhya Bachchan की हालत में भी आया सुधार

दुश्‍मनी दिल की पुरानी चल रही है जान से, ईमान से
लड़ते-लड़ते जिंदगी गुजरी है बेईमान से, ईमान से
ऐ वतन, इक रोज तेरी खाक में खो जाएंगे, सो जाएंगे
मर के भी रिश्‍ता नहीं टूटेगा हिंदुस्‍तान से, ईमान से

वे अपनी रूमानियत में पूरी नफासत के साथ शेर भी लिखते गए। दि‍न ब दिन लोग उनके मुरीद भी बनते गए। महफि‍लों की मदद से वे सुनकारों का कारवां भी तैयार करते रहे।

उनके जाने पर अदब और शाइरी के प्रति उनकी मुहब्‍बत पर उनका लिखा यह शेर भी मौजूं तो है…

दो गज ही सही ये मेरी मि‍ल्‍क‍ियत तो है
ऐ मौत तूने मुझे जमींदार कर दिया

adin

Leave a Reply

Next Post

दुनिया की सबसे Good News, बन गया कोरोनावायरस का वैक्सीन ...

Tue Aug 11 , 2020
हिंदुस्‍तान किसी के बाप का नहीं…. मशहूर शायर और गीतकार राहत इंदौरी साहब इस दुनिया में नहीं रहे. उन्होंने आज शाम 5 बजे आखिरी सांस ली. राहत इंदौरी को कोरोना की वजह से 9 अगस्त को इंदौर के अरविंदो अस्पताल में भर्ती कराया गया था. लेकिन उनका इंतकाल ह्रदय गति […]